Museum

पहले संग्रहालय भण्डार गृह के रूप में जिज्ञासा का विषय समझे जाते थे! रामुपर रज़ा पुस्तकालय में संग्रहालय के महत्व को देश की मूल्यवान भण्डारों के भण्डार के रूप में महसूस किया गया! पुस्तकालय की हामिद मंजिल पैलेस के दरबार हाल में एक संग्रहालय खोलने का इरादा किया गया! यह आगुन्तकों और शोध छात्रों के लिए कला, शिक्षा, शोघ, और पुरातत्व का एक प्रभावशाली स्थान है! दरबार हाल में आगुन्तकों के देखने के लिए दुर्लभ पांडुलिपियो, लधु चित्रों, इस्लामी सुलेखों और दुसरी कला वस्तुओं की कुछ मूल और बड़ी तस्वीरों को रखा गया है! अधकिंश आगुन्तक आकर इन इकाई वस्तुओं का निरीक्षण करते है! यह सप्ताह के सभी दिन एक छुटटी के दिन को छोड़कर कला और सस्ंकृति के क़दरदानो के लाभ के लिए खोला जाता है! दरबार हाल गृह के रास्ते में18 वीं शताब्दीं की कई शास्त्रीय ग्रीक सित्रयों की मुर्तियें, एक मुर्ति गैलरी के माघ्यम से प्रतिनिधतिव करती है! जो एक शताब्दी पहले इटली से आयात की गयी थी भीमकाय मानव-कद मुर्तियां सफेद बाज़ संगमरमर पर खुदी हुई है! दीर्धा में ताक चन्दवा की छजली और छत शुद्ध सोने से अलंकृत उसकी आलीशान भव्यता को और भी बढ़ा देते है! दरबार हाल की छत से पाँच बड़े आकार के पुरानें झाड़ फानूस (दीपाघार) लटके हुए है, उनके मूल बिजली के बल्ब जो सौ साल पुराने है जीवंत हो उठते है! दरबार हाल में पाँच मानव कद की सगंमरमर की मुर्तियां रखी है हमारे अतीत और वर्तमान की यादें और रूचि, को संरक्षण और भण्डार सभी को बचाए रखने की आवयकता की योजना है!

 

 

 


   
Academic Activities
 
 
Online Photo Gallery